इमरान सरकार ने घोंटा सोशल मीडिया का गला! पाकिस्तान में इंटरनेट के नए नियम लागू

पाकिस्तान में तानाशाही का बोलबाला है. कहने को तो इस देश में जनता की चुनी हुआ सरकार है लेकिन उसी जनता को सरकार के खिलाफ बोलने की आजादी नहीं है. यहां जो भी सरकार के खिलाफ आवाज उठाता है उसे किसी न किसी तरीके से शांत कर दिया जाता है. अब पाकिस्तान में सोशल मीडिया की स्वतंत्रता खतरे में पड़ी है. पाकिस्तान में इंटरनेट के नए नियम लागू होने जा रहे हैं.

इमरान सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों की रिक्वेस्ट को खारिज करते हुए नए नियम पास किए हैं. क्रिटिक्स की मानें तो नए नियम सरकार को सेंसरशिप के व्यापक अधिकार देंगे. अब पाकिस्तान में लोगों की सोशल मीडिया आजादी छिन जाएगी.

पाकिस्तान एक मुस्लिम बहुल देश है, जहां पहले से ही सोशल मीडिया और इंटरनेट के बेहद सख्त नियम हैं. कई मामलों में पाकिस्तान के इंटरनेट के नियम रूढ़िवादी माने जाते हैं. पिछले महीने पाकिस्तान दूरसंचार प्राधिकरण (पीटीए) ने ‘अनैतिक और असभ्य’ कंटेंट न हटाने के मामले में टिकटॉक को बैन कर दिया था. इमरान खान कैबिनेट ने फरवरी में नए नियमों को मंजूरी दी थी. ये नियम पास हो चुके हैं.

Loading...

नए नियम पीटीए को ऐसे भड़काऊ डिजिटल कंटेंट को ‘रिमूव और ब्लाक’ करने के अधिकार देते हैं, जो ‘पाकिस्तान की अखंडता और सुरक्षा’ के लिए खतरा हैं. सोशल मीडिया कंपनी या सर्विस प्रोवाइडर को नियम उल्लंघन मामले में 3.14 मिलियन डॉलर तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है. ‘आंतकवाद, अभद्र भाषा, अश्लीलता, हिंसा और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा’ जैसे डिजीटल कंटेंट की अपलोडिंग और लाइव स्ट्रीमिंग को रोकने के लिए ये फैसला लिया गया है.

आपत्तिजनक कंटेंट को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को 24 घंटे या इमरजेंसी में छह घंटे के भीतर हटाना होगा. नए नियम टेलीकॉम अथॉरिटी को पूरे ऑनलाइन सिस्टम को ब्लॉक करने का अधिकार भी देते हैं. पीटीए के प्रवक्ता खुर्रम मेहरान ने रायटर्स को बताया कि ये नियम विदेशी सोशल मीडिया कंपनियों के साथ बेहतर तालमेल के लिए बनाए गए हैं.

नए नियमों के अनुसार देश में जिस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के आधे मिलियन से ज्यादा यूजर होंगे उसे नौ महीने के भीतर पीटीए के साथ पंजीकरण कराना होगा. साथ ही 18 महीनों के भीतर पाकिस्तान में एक स्थायी कार्यालय और डेटाबेस सर्वर स्थापित करना होगा. डिजिटल राइट्स एक्टिविस्ट निगहत डैड ने रायटर्स को बताया कि नए नियम शक्तियों का विस्तार और भयावह हैं.

loading...
Loading...