जानिए उस काली रात की पूरी बात, मौत के ठीक पहले क्या हुआ था दिव्या भारती के साथ?

loading...

एक जमाने में बॉलीवुड की मशहूर अदाकारा व हजारों दिलों पर राज करने वाली दिव्या भारती जैसी अभिनेत्री अब शायद ही दुबारा जन्‍म लेगी। इतनी कम उम्र में सफलता पा लेना कम बड़ी बात नहीं है। इस पूरे इंडस्‍ट्री में शायद ही कोई हीरोइन होगी जिसने अपने करियर के पहले साल में ही 12 फिल्में कीं, जो जबरदस्त हिट हुई लेकिन दूसरे ही साल मौत को गले लगा कर चली गई।

लेकिन दिव्या भारती की मौत कैसे और किन हालातो में हुई ये कोई नहीं जानता। 25 फरवरी 1974 को जन्मी दिव्या आज अगर होतीं तो 45 साल की हो गई होतीं। लेकिन 19 साल की कम उम्र में ही वे चल बसीं और मौत की वजह आज तक साफ नहीं हो पाई। बॉलीवुड में जैसे ही इस हिरोइन का नाम आता है लोगों को तुरंत विश्वात्मा फिल्‍म का ये गाना ‘ऐसी दीवानगी’ और ‘सात समंदर’ याद आता है। इस गाने ने दिव्या को गजब की सफलता दिलाई।

बता दे कि दिव्या भारती ने 1992 में फिल्म ‘विश्वात्मा’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया। इतना ही नहीं इससे पहले भी वो तेलेगू फिल्में कर चुकी थीं। दिव्‍या ने लगातार 10 और हिंदी फिल्में की जैसे शोला औऱ शबनम, दिल का क्या कसूर, जान से प्यारा, दीवाना, दिल आशना है, गीत भी शामिल थीं।

बता दें कि दिव्या को दीवाना के लिए लक्स न्यू फेस ऑफ द ईयर अवार्ड भी मिला। काफी कम समय में दिव्‍या ने इतना कुछ पा लिया। 1993 में दिव्या की सिर्फ तीन ही हिंदी फिल्में रिलीज हो पाईं। ये थीं क्षत्रीय, रंग और शतरंज। ऐसा इसलिए क्योंकि ये दिव्या की जिंदगी का अंतिम साल था।

5 अप्रैल 1993 को अंतिम सांस लेने वाली दिव्या ने सुहागन ही दम तोड़ा क्योंकि उससे ठीक एक साल पहले ही तो उनकी शादी हुई थी। बता दें कि ये तब की बात है जब वो फिल्‍म शोला औऱ शबनम की शूटिंग कर रही थीं उस समय फिल्म के हीरो गोविंदा ने उन्हें निर्देशक-निर्माता साजिद नाडियाडवाला से मिलवाया था। दोनों में प्यार हुआ और शादी करने का फैसला कर लिया।

Loading...

दिव्या ने इस्लाम धर्म कबूला और 10 मई 1992 को शादी कर ली। इसके बाद उनके पति उनकी शादी को सबके सामने नहीं लाना चाहते थें उन्‍हें लगता था कि ये उनके करियर के लिए सही नहीं होगा लेकिन वो इस शादी के बारे में सबसे बताना चाहती थीं। कुछ लोग का तो कहना ये भी है कि दिव्‍या की मौत के पिछे साजिद का ही हाथ था। कई सारी कहानियां आज भी उनकी मौत के रहस्‍य को सुलझा नहीं सकी है।

जिस दिन दिव्या की मौत हुई थी उसी दिन उन्होंने एक नया अपार्टमेंट खरीदा था। इसके इलावा उस दिन वो चेन्नई से एक फिल्म की शूटिंग करके लौटी थी और उन्हें दूसरी शूटिंग के लिए हैदराबाद भी जाना था। मगर नए अपार्टमेंट की डील करने के लिए उन्होंने इस शूट को पोस्टपोन कर दिया।

इसके इलावा उस दिन दिव्या के पैर में चोट भी लगी थी, जिसके बारे में उन्होंने अपने डायरेक्टर को बताया था। वहां नीता और उनके पति करीब दस बजे दिव्या के फ्लैट पर पहुंचे थे। मस्‍ती हो रही थी तभी दिव्या खिड़की की तरफ खड़ी थी।

कुछ देर के लिए दिव्या उस खिड़की पर बैठ गयी, पर जैसे ही वो वापिस जाने के लिए मुड़ी तो उनका बैलेंस बिगड़ गया। वही खिड़की का फ्रेम पकड़ने के चक्कर में वो फिसल गयी और फिर सीधा पांच मंजिल नीचे कंक्रीट के फर्श पर जा गिरी।

कुछ लोगों ने दिव्‍या कि मौत को आत्‍महत्‍या करार दिया तो कुछ ने एक्सीडेंट तो वहीं कुछ ने पति को जिम्मेदार बताया। कहा ये भी जाता था कि साजिद के अंडरवर्ल्ड से रिश्ते होने की बात से दिव्या परेशान रहती थीं। उनकी मां के साथ भी उनकी अनबन रहती थी। इसलिए उन्‍होंने ऐसा कदम उठाया।

loading...
Loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.